गुरुवार, 28 अक्तूबर 2010

बहुत सागर सागर भजती थी देख लिया जरा देर नही लगी अपना से पराया करने में ,मैं तो मैं ,तुम भी गयी कम से .बधाई कितनी शिकायते अंतहीन कभी पूछके देखना कि क्या मैं सचमुच इतनी बुरी हूँ

2 टिप्‍पणियां:

  1. रहने दो मम्मा....आप सागर को कभी समझ ही नहीं पाओगी। रही बात मुझे पराया करने की....तो यह उनके बस की बात नहीं। मेरे और सागर के बीच में ना ही पड़ो तो बेहतर।

    उत्तर देंहटाएं
  2. Nice Article sir, Keep Going on... I am really impressed by read this. Thanks for sharing with us. UPSC,

    उत्तर देंहटाएं